तीसरी आंख

जिसे वह सब दिखाई देता है, जो सामान्य आंखों से नहीं दिखाई देता है

मंगलवार, मार्च 08, 2011

केवल कांग्रेस पर हमले से बदली बाबा रामदेव के आंदोलन की दिशा

इन दिनों प्रख्यात योग गुरू बाबा रामदेव और कांग्रेस के बीच हो रहा टकराव सुर्खियों में है। जाहिर तौर पर योग को पुनर्स्थापित करने वाले बाबा रामदेव के प्रति श्रद्धा की वजह से अधिसंख्य लोग उनकी तरफदारी करते नजर आ रहे हैं, जबकि राजनीतिज्ञों के प्रति कायम अश्रद्धा की भावना के कारण कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह को मानसिक रूप से कुछ विक्षिप्त होने की संज्ञा दी जा रही है। मगर इस जद्दोजहद में बाबा रामदेव की भारत स्वाभिमान वाली मूल मुहिम गलत दिशा में जाती दिखाई दे रही है।
असल में जब तक बाबा रामदेव केवल योग व आयुर्वेद की शिक्षा दे रहे थे, तब तक सभी श्रद्धालु अपनी राजनीतिक विचारधारा को घर पर रख कर आ रहे थे। कांग्रेसी हो या भाजपाई, हिंदू के साथ-साथ प्रगतिशील विचारधारा का मुस्लिम भी बाबा के आगे श्रद्धावनत था। इसके बाद जैसे ही बाबा रामदेव ने जब भ्रष्टाचार और विदेशों में जमा काले धन के खिलाफ मुहिम छेड़ी थी तो वह उनके श्रद्धालुओं को कुछ अटपटी तो लगी, लेकिन चूंकि मुहिम का उद्देश्य पवित्र था और उनके विचारों में एकनिष्ठ देशप्रेम छलक रहा था, इस कारण लोग उन्हें बड़े शौक से सुन रहे थे। उनकी मुहिम राजनीति में व्याप्त अनीति के खिलाफ एक बड़ी जनक्रांति दिखाई दे रही थी। तर्क नीतिगत थे, इस कारण एक साधु के राजनीतिक चर्चा करने को जायज माना जा रहा था। उन्होंने जब राजनीति में शुचिता की खातिर देशभर में रैलियां निकालीं तो लोगों को उनमें जयप्रकाश नारायण के दर्शन होने लगे और ऐसा महसूस किया जाने लगा है कि ऋषि दयानंद सरस्वती के बाद वे एक बड़े समाजोद्धारक के रूप में उभरने लगे हैं। कई दिग्गज बुद्धिजीवियों ने उनका खुल कर समर्थन भी किया, मगर चंद दिन बाद ही ऐसा प्रतीत होने लगा है कि बाबा रामदेव बयानों की दलदल में फंसते नजर आ रहे हैं।
यह सही है कि कांग्रेस को देश पर राज करने का मौका ज्यादा मिला है, उसके नेताओं ने ज्यादा सत्ता सुख भोगा है, इस कारण उनका काला धन विदेशों में अपेक्षाकृत ज्यादा होने की संभावना है। मगर इसका अर्थ ये भी नहीं है कि अकेले कांग्रेस के ही नेता भ्रष्ट हैं। भ्रष्टाचार हमारी रग-रग में शामिल हो चुका है। पूरे तंत्र पर छा गया है। इससे कांग्रेस सहित अन्य कोई भी दल अछूता नहीं है। धर्मनिरपेक्षता और हिंदूवाद की विचारधाराओं के कारण कांग्रेस और भाजपा में नीतिगत अंतर तो नजर आता है, मगर राजनीति में भ्रष्टाचार के मामले में दोनों के बीच कोई अंतर रेखा नजर नहीं आती है। प्रारंभ में बाबा रामदेव जब बिना किसी पक्षपात के भ्रष्ट हो चुके तंत्र पर हमला बोल रहे थे और उसे पलटने के लिए अपने प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारने की बात कर रहे थे, तब यही प्रतीत हो रहा था कि न तो वे केवल कांग्रेस के खिलाफ हैं और न ही भाजपा के प्रति उनका विशेष लगाव है। लेकिन जैसे ही उन्होंने सीधे कांग्रेस व गांधी-नेहरू परिवार पर निशाना साधना शुरू किया है, उनके आंदोलन की दिशा ही बदल गई है। अब ऐसा लगने लगा है कि उनकी पूरी मुहिम केवल कांग्रेेस को सत्ता से बाहर करने के लिए है। संघ और भाजपा की ओर से उनके आंदोलन को समर्थन दिए जाने की वजह से कदाचित बाबा के नहीं चाहते भी वे मात्र कांग्रेस विरोधी दिखाई देने लगे हैं। बुद्धिजीवी बाबा रामदेव और संघ व भाजपा के बीच किसी अंतर्गठजोड़ के सूत्र तलाश रहे हैं।
हालत ये हो गई है कि जो बुद्धिजीवी बाबा रामदेव को महान समाज सुधारक कहते हुए नहीं थक रहे थे, उन्हीं में कुछ बाबा रामदेव के ट्रस्टों का पोस्टमार्टम करने को उतारू हैं। लोगों को इस बात को हजम करने में दिक्कत आ रही है कि कल तक जिस स्वामी रामदेव को वे साइकिल पर घूमता देखते थे, वह अब हैलीकाप्टर में घूमता है और उसके पास दुनिया का अत्याधुनिक आश्रम है। अब ये बातें भी की जाने लगी हैं कि उनके साधकों को ज्यादा दिलचस्पी अपने आरोग्य मे हैं, न कि योगी के मुख से आध्यात्मिक बातों के साथ अचानक राजनीति की कड़वी बातें सुनने में। यहां तक कहा जाने लगा है कि शिष्टाचार, श्रद्दा और विश्वास के चलते जुटी भीड़ के समर्थन का गुमान स्वामी रामदेव को होने लगा है, लेकिन इस भीड़ से उन्हें अप्रत्याशित रूप से वोट के रूप में देशभक्त लोग मिल जायेंगे, ऐसी उम्मीद करनी तो बेमानी ही होगी। सवाल ये भी उठाये जा रहे हैं कि जिस आम आदमी की बात स्वामी रामदेव करते हैं, उसके अन्दर इतना मानसिक और सामाजिक साहस नहीं है कि वह पतंजलि योगपीठ की भव्य ओपीडी में एंट्री भी कर पाए। स्वदेशी आंदोलन पर सर्वाधिक मुखर बाबा रामदेव को मिली लगभग एक दर्जन से ज्यादा विदेशी गाडियां आंखों में चुभने लगी हैं। प्रश्न ये भी उठाया जा रहा है कि जिन भ्रष्ट राजनीतिकों पर बाबा हमले पर हमले करते रहे हैं, उन्हीं पर अपनी पकड़ का प्रदर्शन करने के लिए विभिन्न सेवा प्रकल्पों के शिलान्यास समारोहों में मुख्यमंत्रियों को बुलाते रहे हैं। इन बड़े नेताओं में वे चेहरे भी शामिल हैं, जिन पर देश की अदालतों में घोटालों के मुकदमे भी चल रहे हैं।
विवादग्रसत हो चुके बाबा रामदेव को एक बार फिर अपनी मुहिम पर पुनर्विचार करना होगा। आशाभरी निगाहों से बाबा रामदेव को देख रहे करोड़ों भारतीयों की निष्ठा उनमें बनी रहे, इसके लिए जरूरी है कि बाबा बयानबाजी और विवादों से बचें। हालांकि हमारे अन्य आध्यात्मिक व धार्मिक गुरू भी राजनीति में शुचिता पर बोलते रहे हैं। मगर बाबा रामदेव जितने आक्रामक हो उठे हैं और देश के उद्धार के लिए खुल कर राजनीति में आने का आतुर हैं, उसमें उनको कितनी सफलता हासिल होगी, ये तो वक्त ही बताएगा, मगर योग गुरू के रूप में उन्होंने जो अंतरराष्ट्रीय ख्याति व प्रतिष्ठा अर्जित की है, उस पर आंच आती साफ दिखाई दे रही है। यदि समय रहते बाबा रामदेव ने आंदोलन की दिशा पर ध्यान नहीं दिया तो खतरा इस बात का ज्यादा है कि उत्थान और पतन की कहानियों अटे पड़े इस देश में वे भी इतिहास का विषय बन जाएंगे

8 टिप्‍पणियां:

  1. शुभागमन...! सुस्वागतम....!!
    शुभकामना है कि आप ब्लागलेखन के इस क्षेत्र में अधिकतम उंचाईयां हासिल कर सकें । अपने इस प्रयास में पर्याप्त सफलता तक पहुँचने के लिये आप हिन्दी के दूसरे ब्लाग्स भी देखें और अच्छा लगने पर उन्हें फालो भी करें । आप जितने अधिक ब्लाग्स को फालो करेंगे आपके अपने ब्लाग्स पर भी फालोअर्स की संख्या बढ सकेगी । प्राथमिक तौर पर मैं आपको 'नजरिया' ब्लाग की लिंक नीचे दे रहा हूँ, किसी भी नये हिन्दीभाषी ब्लागर्स के लिये इस ब्लाग पर आपको जितनी अधिक व प्रमाणिक जानकारी इसके अब तक के लेखों में एक ही स्थान पर मिल सकती है उतनी अन्यत्र शायद कहीं नहीं । आप इस ब्लाग के दि. 18-2-2011 को प्रकाशित आलेख "नये ब्लाग लेखकों के लिये उपयोगी सुझाव" का अवलोकन अवश्य करें, इसपर अपनी टिप्पणीरुपी राय भी दें और अगली विशिष्ट जानकारियों के लिये इसे फालो भी अवश्य करें । निश्चय ही आपको इससे अच्छे परिणाम मिलेंगे । पुनः शुभकामनाओं सहित...
    http://najariya.blogspot.com/2011/02/blog-post_18.html

    उत्तर देंहटाएं
  2. बात तो विचारणीय है.... सार्थक लेख...

    उत्तर देंहटाएं
  3. ब्‍लागजगत पर आपका स्‍वागत है ।

    संस्‍कृत की सेवा में हमारा साथ देने के लिये आप सादर आमंत्रित हैं,
    संस्‍कृतजगत् पर आकर हमारा मार्गदर्शन करें व अपने
    सुझाव दें, और अगर हमारा प्रयास पसंद आये तो संस्‍कृत के
    प्रसार में अपना योगदान दें ।

    यदि आप संस्‍कृत में लिख सकते हैं तो आपको इस ब्‍लाग पर लेखन के लिये आमन्त्रित किया जा रहा है ।

    हमें ईमेल से संपर्क करें pandey.aaanand@gmail.com पर अपना नाम व पूरा परिचय)

    धन्‍यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस नए सुंदर से चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. " भारतीय ब्लॉग लेखक मंच" की तरफ से आप को तथा आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामना. यहाँ भी आयें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो फालोवर अवश्य बने .साथ ही अपने सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ . हमारा पता है ... www.upkhabar.in

    उत्तर देंहटाएं
  6. मुझे लगता हैं की लेखक महोदय को बाबा रामदेव से विशेष लगाव है अन्यथा बाबा में सारी नकारात्मकता का दर्शन करने वाले मुझे तो लेखक महोदय जैसे एक आध ही मिले हैं.
    बाबाजी को समझना हो तो पहले योग प्राणायाम करके अपने चित्त को शुद्ध करना पड़ता है क्योंकि अष्टांग योग दर्शन में कहा है "योगः चित्त वृत्ति निरोधः "
    अब ज्यादा कुछ कहने की आवश्यकता नहीं है! कृपया समीप की किसी योग कक्षा में पधारिये और अपने मानस को ठीक कीजिये, सारी स्थिति बदल जाएगी!
    वैसे आपकी जानकारी के लिए बता दूं भारत तो पहले भी सोने की चिड़िया था और आज भी है बस अंतर यही है की यह सोने की चिड़िया स्विस बैंक के लोकर में बंद है.
    उसको बाहर निकालने के लिए साम दाम दंड भेद जो भी नीति बाबा अपनाये उसमे पूरी भारत की जनता उसके साथ है.
    जय भारत जय हिंद
    जय भारत स्वाभिमान

    उत्तर देंहटाएं
  7. बाबा इतने रहस्यपूर्ण खुदा भी नहीं कि उन्हें जानने के लिए योग और प्राणायम करना जरूरी हो, रहा सवाल यो बरने का तो वह जब बाबा पैदा अर्थात चच्रित भी नहीं हुए थे, मैं तब से योग कर रहा हूं, बाबा ने कोई नया ईजाद नहीं किया है, हां उन्होंने इसे शिखर तक पहुंचाया है, उसकी जितनी तारीफ की जाए, कम है, मगर यदि आप राजनीति में आएंगे तो आपको आरोप भी झेलने होंगे, बाबा के समर्थक न जाने क्यों इतने उत्तेजित हो जाते हैं, असल में वे घोर प्रतिक्रियावादी हैं,
    बाबा भगवा कपडों को रक्षा कवच बनाना चाहते हैं, राजनीति में यह संभव नहीं है, यदि मेरी बात अभी समझ में नहीं आती तो कुछ साल बाद समझ में आ जाएगी, उसके लिए कोई योग नहीं करना होगा,

    उत्तर देंहटाएं